News In

No.1 News Portal of India

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में 11 आइ एफ एस अफसरों समेत 17 कोरोना पॉजिटिव दो छेत्र कंटोनमेंट जोन घोषित

देहरादून। उत्‍तराखंड में राजधानी देहरादून और उसके आस-पास के इलाकों में कोरोना-महामारी का प्रकोप फिर बढ़ने लगा है। यहां एफआरआई ओल्ड हॉस्टल में 11 आईएफएस (IFS) अफसर कोरोना संक्रमित मिले।

इसके बाद सहस्त्रधारा रोड स्थित तिब्बती कॉलोनी में भी 6 लोगों की जांच रिपोर्ट कोविड ​-19 पॉजिटिव आई। जिसके बाद इन दोनों क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। यह जानकारी आज शाम को देहरादून के जिलाधिकारी आर राजेश कुमार ने दी।

जिलाधिकारी राजेश कुमार ने कहा कि, एफआरआई में आए हिमाचल प्रदेश के एक वरिष्ठ अधिकारी कोविड-19 पॉजिटिव पाए जाने के बाद फरार हो गए हैं। पुलिस को इस बारे में सूचित कर दिया गया है। वहीं, अन्‍य अधिकारियों के बारे में देहरादून के जिलाधिकारी आर राजेश कुमार ने कहा कि, सभी को FRI परिसर स्थित हॉस्टल में आइसोलेट कर दिया गया है। बता दें कि, उपरोक्‍त सभी लोग देहरादून स्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी में मिड टर्म ट्रेनिंग में हिस्‍सा लेने आए थे। वहीं, एक सीनियर समेत 11 IFS अफसर कोरोना संक्रमित पाए गए। इस बारे में अकादमी के एडिशनल डायरेक्टर डॉ. एसके अवस्थी ने भी जानकारी दी। उन्‍होंने बताया कि, 48 अधिकारियों का दल पहले लखनऊ ट्रेनिंग पर था। इसके बाद दिल्ली में ट्रेनिंग के लिए गया। दिल्ली से देहरादून जाने के दौरान सभी के सैंपल लिए गए थे, जिसमें 8 अफसर संक्रमित पाए गए। इसके बाद दून में सभी 48 की सैंपलिंग की गई और तीन अन्य के साथ संक्रमितों की संख्या 11 पहुंच गई।

देहरादून जिला मजिस्ट्रेट आर.राजेश कुमार ने आज शाम को जानकारी दी कि, देहरादून की तिब्बती कॉलोनी में जिन 6 लोगों में भी कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है, उन्‍हें उपचार मुहैया कराया जा रहा है। वहीं, एहतियात के तौर पर दोनों इलाकों को अब कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है।

उधर, उत्तराखंड के स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत का कहना है कि, राज्य में कोविड ​​-19 टेस्ट में कोई कमी नहीं होगी और सरकार एक बार फिर पुनर्विचार करेगी कि सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थापित टेस्टिंग बूथों को हटाया जाए या नहीं। उत्तराखंड के मुख्य सचिव द्वारा राज्य की सीमा और रेलवे स्टेशनों पर पर्यटकों के कोविड 19 टेस्ट को बंद करने का आदेश पारित करने के बाद स्वास्थ्य मंत्री का बयान आया है।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: