News In

No.1 News Portal of India

प्रदेश में की जा रही पत्रकारों की उपेक्षा के चलते मुख्यमंत्री आवास पर 14 मई को धरने पर बैठेंगे उत्तराखंड प्रेस क्लब अध्यक्ष विश्वजीत सिंह नेगी

प्रदेश के पत्रकारों की जिस तरीके से आज उत्तराखंड में उपेक्षा हो रही है किसी से छुपा नहीं है चौथा स्तंभ कह कर के चौथे स्तंभ को हिलाने में किसी ने कोई कसर नहीं छोड़ी है, प्रदेश के मुखिया पत्रकारों के लिए कोरोना वॉरियर्स घोषित करने की बात कहते है उनको वैक्सीन लगाए जाने की घोषणा प्रदेश के मुखिया करते हैं परंतु अधिकारी उनकी घोषणाओं को रद्दी का कागज समझ कर फाइलों में दबा देते हैं।

प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के निर्देश के बाद भी उत्तराखंड में पत्रकारों को नहीं मानने को तैयार कॅरोना वरियर आखिर क्यों ??

विश्वजीत सिंह नेगी ने कहा कि मुख्यमंत्री का विभाग सूचना जिसके महानिदेशक बड़ा सा पत्र जारी कर सोशल मीडिया में डालते हैं कि कॅरोना से पीड़ित पत्रकारों का हाल जाना जाएगा हाल तो दूर उन्हें बहाल करने में भी सूचना विभाग ने कोई कसर नहीं छोड़ रखी है,हाल जानते जानते कई पत्रकारो को कॅरोना लील गया। यदि यही कुछ इनके साथ गुजर होता तो भी यही करते जो आज पत्रकारो के साथ कर रहे है। भुखमरी ओर परेशानी से जूझ रहे छोटे पत्रकारो की सुध कौन लेगा डी जी सूचना साहब, क्या पत्रकारो के लिए एक वैक्सीनेशन कैम्प भी आयोजित नही करा पा रहे हैं तो पद छोड़ दीजिए । यह सब बात इसलिए भी कह रहा हूं कि चौथे स्तंभ को संभालने की जिम्मेदारी आपको दी गई है आप अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन नही कर पा रहे हैं ।

इन सब घटनाओं से व्यथित होकर मैं 14 तारीख को प्रदेश के मुख्यमंत्री के आवास के बाहर धरने पर बैठूगा या तो 14 से पहले प्रदेश के पत्रकारो व उनके परिजनों के लिए सभी जनपदों में अलग वैक्सीनेशन कैंपो की व्यवस्ता व अन्य व्यवस्थाओं को सुधार कर लिया जाए अन्यथा मेरा धरना किसी भी हालत में नहीं रुकेगा। मेरे एक एक पत्रकार साथी की मौत के जिम्मेदार उन अधिकारियों के विरुद्ध भी कार्यवाही करवाने की मांग करता हूं जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जिम्मेदार हैं।

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: